गौतम अडानी का जीवन परिचय (Gautam Adani Biography in Hindi)

Table of Contents

गौतम अडानी का जीवन परिचय (Gautam Adani Biography in Hindi)

नामगौतम शांतिलाल अडानी
जन्म तिथि24 जून 1962
जन्म स्थानअहमदाबाद, गुजरात, भारत
माता का नामशांताबेन अडानी
पिता का नामशांतिलाल अडानी
जीवनसाथी का नामप्रीति अडानी
बच्चेजीत अडानी और करन अडानी
शिक्षा (स्कूल)सेठ चिमनलाल नगीनदास विद्यालय
शिक्षा (कॉलेज)गुजरात यूनिवर्सिटी से वाणिज्य (ड्रॉप्ड-आउट)
पेशाउघोगपति
नागरिकताभारतीय
नेटवर्थ (highest) $150 बिलियन डॉलर (year 2022)
Networth 2023$ 70.8 बिलियन डॉलर
Rank 2023#16
Gautam Adani biography, family, wife, parents, childrens, wealth, networth, companies, controversy
Gautam Adani Biography

गौतम अडानी कौन हैं (Who is Gautam Adani)

गौतम अदाणी भारत के एक जानेमाने अरबपति उद्योगपति है, जो की अडानी समूह के फाउंडर है और अभी अडानी समूह के चेयरमैन के तौर पर कार्यरत हैं। वैल्थ कमाने के मामले में 2022 में जहां उन्होंने भारत के अब तक के सबसे अमीर रहे इंसान मुकेश अम्बानी को भी पीछे कर दिया था, वही वे दुनिया के दूसरे सबसे अमीर इंसान बन गए थे। अमूमन इतना वेल्थ बनने में लोगो की कई पीडिया बीत जाती है, गौतम अडानी फर्स्ट जेनरेशन के अरबपति थे। अडानी ग्रुप की कम्पनीज इंफ्रास्ट्रक्चर, लॉजिस्टिक्स, एनर्जी और कमोडिटीज ट्रेडिंग जैसे क्षेत्रों में व्यवसाय करती हैं।

गौतम अडानी का जन्म, परिवार, पत्नी, बच्चे (Gautam Adani Birth, Family, Wife, Childrens)

गौतम अडानी (गौतम शांतिलाल अडानी) का जन्म 24 जून 1962 को अहमदाबाद के रतनपोल में एक मध्यमवर्गीय गुजराती जैन परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम शांतिलाल अडानी और मां का नाम शांताबेन अडानी है। गौतम अडानी के पिता एक कपड़ा व्यापारी थे। ये सात भाई-बहन हैं। गौतम अडानी की पत्नी का नाम प्रीति अडानी है, जो की पेशे से डेंटिस्ट है, लेकिन इस समय अडानी फाउंडेशन के चेयरपर्सन के तौर पर कार्यभार संभाल रही हैं। इनके दो बेटे है जिनके नाम करन अडानी और जीत अडानी है।

गौतम अडानी की शिक्षा (Gautam Adani Education)

गौतम अडानी ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा सेठ चिमनलाल नगीनदास विद्यालय से की थी। अपनी स्कूलिंग पूरी करने के बाद इन्होने गुजरात यूनिवर्सिटी से वाणिज्य की पढाई शुरू कर दी, लेकिन किसी कारण से वह अपनी ग्रेजुएशन पूरी नहीं कर पाएं और उन्हें बिच में ही अपनी पढ़ाई छोड़नी पड़ी।

गौतम अडानी के करियर की शुरूआत (Gautam Adani Career Starting)

अपना कुछ करने की चाह में आये मुंबई

हालाँकि, उनके पिता का टेक्सटाइल का बिज़नेस था लेकिन उनकी अपने पिता के बिज़नेस में कोई रूचि नहीं थी वह अपना कुछ करना चाहते थे। जिसके लिए उनके अंकल ने उन्हें मुंबई जाने के लिए प्रेरित किया। अतः अपने अंकल की सलाह मानने के बाद, गौतम अडानी ने मुंबई जाने का फैसला लिया। मुंबई में वह अपने बड़े भाई विनोद अडानी के साथ रहे, जो की उस वक्त cut-piece fabrics के थोक व्यापारी के तौर पर काम करते थे।

डायमंड शॉर्टर के तौर पर किया काम

यहाँ गौतम अडानी ने सबसे पहले महिंदा ब्रदर्स की मुंबई शाखा के एक डायमंड सेण्टर में डायमंड सॉर्टर के तौर में काम किया था। गौतम अडानी काफी इंटेलीजेंट और मेहनती थे और क्योंकी वह बिजनेस में भी काफी रूचि रखते थे इसलिए उन्होंने उस काम को करते-करते उस धंधे के बारे में अच्छी तरह से जान लिया, इस उम्मीद से की भविष्य में वह अपना खुद का व्यापार कर सके। और जब उन्हें लगा की वह अब तैयार है अपने खुद का बिज़नेस करने के लिए तो उन्होंने अपनी जॉब छोड़ दी और अपने कज़न गिरीश और प्रकाश के साथ मिलकर एक डायमंड ब्रोकरेज फर्म खोल लिया।

पॉलीविनाइल क्लोराइड (PVC) का आयात

1981 में वह अपने बड़े भाई महासुखभाई अदानी के कहने पर वापस अहमदाबाद आ गए, क्युकी महासुखभाई अदानी ने उस वक्त एक प्लास्टिक यूनिट (पीवीसी) खरीदी थी और वह चाहते थे की गौतम अदानी उसका संचालन और प्रबंधन करे। यह उद्यम बाद में पॉलीविनाइल क्लोराइड (पीवीसी) आयात के माध्यम से अडानी के लिए वैश्विक व्यापार करने का प्रवेश द्वार बन गया।

अदानी समूह का व्यावसायिक क्षेत्र (Business Segments)

इंफ्रास्ट्रक्चर (infrastructure)

अदानी ग्रुप infrastructure के क्षेत्र में एक अग्रणी (leading) प्लेयर है, जो बंदरगाहों, लोजिस्टिक्स, स्पेशल इकनोमिक ज़ोन्स और हवाई अड्डों में विशेषज्ञता रखती है। अदानी ग्रुप की प्रमुख कंपनी, अदानी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकोनॉमिक ज़ोन लिमिटेड, भारत में सबसे बड़ी प्राइवेट पोर्ट ऑपरेटर है जो देश भर में 12 पोर्ट्स और टर्मिनल्स को मैनेज करती है। वही अदानी ग्रुप की एक दूसरी सब्सिडियरी कंपनी, अदानी लॉजिस्टिक्स, जो विभिन्न सेक्टर्स की कम्पनीज को end-to-end लोजिस्टिक्स सोलूशन्स प्रदान करती है।

ऊर्जा (Energy)

अदानी ग्रुप भारत की सबसे बड़ी निजी क्षेत्र की ऊर्जा कंपनियों में से एक है, जिसके पास थर्मल पावर, सौर ऊर्जा, पवन ऊर्जा और गैस वितरण व्यवसायों का एक विविध पोर्टफोलियो है। ग्रुप की एक प्रमुख सब्सिडियरी कंपनी, अदानी पावर है जिसके देश भर में 12,000 मेगावाट से अधिक की पावर जेनरेट करने की क्षमता है।

इसके अलावा अदानी ग्रुप की एक अन्य साखा है जिसका नाम अदानी ग्रीन एनर्जी है जो की रिन्यूएबल एनर्जी के क्षेत्र में कार्यरत है। यह भारत के सौर ऊर्जा और पवन ऊर्जा निर्माण में एक प्रमुख खिलाड़ी है और 2025 तक कंपनी ने अपने रिन्यूएबल एनर्जी की कैपेसिटी को 25 GW तक बढ़ाने का लक्ष्य तय किया है।

खनन और संसाधन (Mining and Resources)

अडानी ग्रुप की उपस्थिति mining and resources के छेत्र में भी है। ग्रुप की एक सब्सिडियरी कंपनी, Adani Mining, भारत में सबसे बड़ी कोयला खदान का संचालन करती है, साथ ही ऑस्ट्रेलिया और इंडोनेशिया में भी कंपनी की प्रेज़ेन्स है। इसके अलावा एक अन्य सब्सिडियरी कंपनी है जिसका नाम अडानी ट्रेडिंग सर्विसेज है और यह कोयला, लौह अयस्क और तेल जैसी वस्तुओं के ट्रेडिंग में लगी हुई है।

गौतम अडानी का बिज़नेस एवं कंपनियाँ (Gautam Adani Business and Companies)

अडानी एक्सपोर्ट्स की शुरूवात की

साल 1985 में उन्होंने छोटे पैमाने पर पॉलिमर का आयात करना शुरू किया था लेकिन बाद में इन्होने अपने धंदे को बढ़ने की सोची और 1988 में अदानी एक्सपोर्ट्स की स्थापना की। अदानी एक्सपोर्ट्स आज अदानी एंटरप्राइजेज के नाम से जानी जाती है। कंपनी ने अपनी शुरुआत में कृषि और बिजली से सम्बंधित वस्तुओं में डील की, लेकिन बाद में धातु और कपड़ा जैसे उत्पादों को शामिल करके अपने व्यापार में विस्तार किया। आज अदानी एंटरप्राइजेज की कई सब्सिडियरी और संयुक्त रूप से नियंत्रित कंपनियां है।

ग्लोबलाइजेशन ने दिया मौका

साल 1991 में भारत में ग्लोबलाइजेशन की शुरुवात हुई, और साथ ही देश की आर्थिक नीतियो में सुधार हुआ, जिसने गौतम अडानी को अपने बिज़नेस को देश के बाहर फ़ैलाने का सुनहरा अवसर दिया। जिसके बाद उन्होंने मेटल्स, टेक्सटाइल और एग्रीकलचर प्रोड्क्ट की अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ट्रेडिंग शुरू कर दी।

मुंद्रा पोर्ट का कॉन्ट्रैक्ट मिला

साल 1994 में, गुजरात सरकार ने मुंद्रा पोर्ट के प्रबंधकीय आउटसोर्सिंग की घोषणा की, जिसके बाद मुंद्रा पोर्ट के मैनेजमेंट को प्राइवेट कंपनियों के लिए खोला गया। गौतम अडानी ने इस अवसर को हाथ से जाने नहीं दिया और इसके लिए आवेदन कर दिया और उन्हें इस पोर्ट का कॉन्ट्रैक्ट मिल गया। मुंद्रा देश का

अडानी पोर्ट्स की शुरुवात

साल 1995 में उन्होंने Adani Ports & SEZ कम्पनी की शुरुवात की, जोकि आज मुंद्रा पोर्ट ही नहीं बल्कि देश के अन्य पोर्ट को भी मैनेज करता है। वर्तमान में अडानी पोर्ट देश की सबसे बड़ी निजी पोर्ट ऑपरेटर कम्पनी है।

अडानी पॉवर कंपनी खोली

साल 1996 में अदानी ने एनर्जी सैक्टर में अपना हाथ आजमाया और अडानी पॉवर कंपनी की शुरूआत की। अडानी पावर के पास 4620MW की क्षमता वाले थर्मल पावर प्लांट हैं, जो देश का सबसे बड़ा निजी थर्मल पावर उत्पादक है।

माइनिंग के फील्ड में भी उतरे

साल 2007 में अडानी माइनिंग की शुरुवात की जो साल 2010 में उड़ीसा माइन के राइट्स को जितने के बाद देश की सबसे बड़ी प्राइवेट कोल् माइनिंग कंपनी बन गई। साल 2013 में अडानी ग्रुप ने ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड के कोल् टर्मिनल, Abbot Point का कॉन्ट्रैक्ट हासिल किया। साल 2014 में अडानी ग्रुप ने ऑस्ट्रेलिया की सबसे बड़ी कोयला खदान, कारमाइकल (Carmichael) का प्रोजेक्ट हासिल किया।

डिफेंस के छेत्र में भी रखा कदम

साल 2016 में अदानी ग्रुप ने डिफेंस सेक्टर में भी एंट्री की और अदानी डिफेंस एंड एयरोस्पेस की स्थापना की, जिसके तहत वह मानव रहित एरियल सिस्टम, छोटे हथियार, काउंटर ड्रोन सिस्टम, और एयरक्राफ्ट सर्विसेज प्रदान करती है।

एयरपोर्ट के छेत्र में उतरे

साल 2019 में अडानी ग्रुप ने एयरपोर्ट्स के छेत्र में भी एंट्री कर ली, और अडानी एयरपोर्ट के नाम से कंपनी खोली, और दो साल के अंदर अडानी एयरपोर्ट ने देश के कई प्रमुख एयरपोर्ट्स का कॉन्ट्रैक्ट हासिल किया, जिसमे अहमदाबाद, लखनऊ, जयपुर, मंगलुरु, गुवाहाटी और तिरुवनंतपुरम के एयरपोर्ट्स शामिल है। कंपनी अगले 50 साल तक इन एयरपोर्ट्स का प्रबंधन, संचालन और आधुनिकीकरण का काम करेगी।

सोलर एनर्जी और ग्रीन एनर्जी सेक्टर में भी उतरे

साल 2020 में अडानी ग्रुप ने एनर्जी के दूसरे रिसोर्सेस के धंधे में एंट्री की और सोलर एनर्जी और ग्रीन एनर्जी में शुरूआत की।

अदानी समूह का विस्तार (Building of the Adani Group)

गौतम अदानी की लीडरशिप में अदानी ग्रुप ने पिछले तीन दशक में काफी तेजी से ग्रोथ की है। अदानी ग्रुप की उपस्थिति आज दुनिया भर में है, और भारत के यह देश के सबसे बड़े समूहों में से एक बन गया है। अदानी समूह की प्रमुख कंपनीयो में अडानी पोर्ट्स आज देश की सबसे बड़ी प्राइवेट पोर्ट ऑपरेटर है और अदानी पावर देश की सबसे बड़ी निजी क्षेत्र की थर्मल पावर जनरेशन करने वाली कंपनियों में से एक है।

भविष्य की योजनाएं और निवेश (Future Plans and Investments)

अडानी ग्रुप की भविष्य को लेकर काफी महत्वाकांक्षी योजनाएँ है जिससे वह अपने बिज़नेस को भारत और विदेश में विकास और विस्तार कर सके। समूह के द्वारा हाल के वर्षों में कई बड़े निवेशों की घोषणा की गई है, जिसमें मुंबई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे में नियंत्रण हिस्सेदारी का अधिग्रहण करना, उत्तरी भारत में एक नए मल्टी-मॉडल लॉजिस्टिक्स पार्क का विकास करना और एक डेटा सेंटर व्यवसाय की स्थापना शामिल है। साथ ही वह विदेशी बाजार में भी अपनी प्रजेंस को बढाती जा रही है।

गौतम अडानी की कुल संपत्ति (Gautam Adani Net Worth 2023)

  • साल 2012 में गौतम अडानी की नेटवर्थ $3.9 बिलियन डॉलर थी ।
  • साल 2013 में गौतम अडानी की वेल्थ में कमी आई और उनकी नेटवर्थ $2.6 बिलियन डॉलर रह गई।
  • साल 2014 में गौतम अडानी की नेटवर्थ 2.7 टाइम्स बढ़कर $7.1 बिलियन डॉलर हो गई, और 2015 में भी उसी के आस-पास ही रही।
  • साल 2016 में गौतम अडानी की नेटवर्थ गिरकर $6.3 बिलियन डॉलर रह गई।
  • साल 2017 में गौतम अडानी की नेटवर्थ फिर से बढ़ी और $11 बिलियन डॉलर हो गई जो की साल 2018 में भी उसी के आस-पास रही।
  • साल 2019 में गौतम अडानी की वेल्थ में $3.8 बिलियन डॉलर की बढ़त हुई और टोटल नेटवर्थ $15.7 बिलियन डॉलर हो गई, और वो देश के दूसरे सबसे आमिर इंसान बन गए।
  • साल 2020 में गौतम अडानी की वेल्थ में $9 बिलियन डॉलर से भी ज्यादा की ग्रोथ हुई जिससे उनकी टोटल नेटवर्थ $25.2 बिलियन डॉलर हो गई।
  • साल 2021 में गौतम अडानी की वेल्थ में तीन गुना का इज़ाफ़ा हुआ और उनकी नेटवर्थ बढ़कर $75 बिलियन डॉलर के करीब हो गई।
  • 2022 में उनकी नेटवर्थ बढ़ कर $150 बिलियन डॉलर हो गई, और वो भारत के सबसे अमीर और दुनियाँ के तीसरे सबसे आमिर इंसान बन गए।
  • साल 2023 गौतम अडानी के लिए सबसे बूरा रहा और हिंडनबर्ग रिसर्च के रिपोर्ट के बाद उनकी वेल्थ $100 बिलियन डॉलर से भी ज्यादा तक गिर गई, जिसमे की अभी भी काफी उतर चढ़ाव हो रहे है। करंट समय में उनकी नेटवर्थ $70.8 बिलियन डॉलर रह गई और उनका दुनियाँ के 10 सबसे अमीर इंसान का ताज छीन गया है अभी इस लेख को लिखने तक उनकी फोर्बेस के बिलिनियर लिस्ट में रैंक #16 है।
YearGautam Adani Total Net Worth
2012$3.9 बिलियन डॉलर
2013$2.6 बिलियन डॉलर
2014$7.1 बिलियन डॉलर
2015$7 बिलियन डॉलर
2016$6.3 बिलियन डॉलर
2017$11 बिलियन डॉलर
2018$11.9 बिलियन डॉलर
2019$15.7 बिलियन डॉलर
2020$25.2 बिलियन डॉलर
2021$75 बिलियन डॉलर
2022$150 बिलियन डॉलर
2023$70.8 बिलियन डॉलर
Gautam Adani Total Net Worth

गौतम अडानी के सुविचार (Gautam Adani Quotes)

  • गौतम अडानी कहते है की सफलता का कोई शॉर्टकट नहीं है, सफलता पाने के लिए आपको कड़ी मेहनत, समर्पण और दृढ़ता की आवश्यकता होती है।
  • गौतम अडानी का मानना है की या तो आप बहिर्मुखी (extrovert) हैं या अंतर्मुखी (introvert), और उस हिसाब से देखा जाये तोह वह अंतर्मुखी ((introvert) है। उनका मानना है की वो एक सामाजिक व्यक्ति नहीं है और उन्हें पार्टियों में जाना पसंद नहीं है।
  • उनका कहना है कि, व्यापार जोखिम से भरा हो सकता है। अगर इसमें सफल होना है तो आपको इसमें निरंतर बने रहना है, और कभी हार नहीं माननी ​​है।
  • उनका मानना है कि, हर इंसान के जीवन का एक लक्ष्य है, और उसे पाने के लिए उन्हें उसपर अटल रहना होगा, और देखना एक दिन आप उसके शिखर पर होंगे और आपको कई अवसर दिखाई देगें।
  • अदानी का कहना है कि या तो आप अपने लिए पैसे जमा करके बैठें रहिये या फिर निरंतर तरक्की करते रहिये।
  • अडानी कहते है की, एक उद्यमी बनना उनका ड्रीम जॉब है, क्योंकि यह आपकी दृढ़ता की परीक्षा लेता है।
  • अडानी कहते है की उनका विश्लेषण का अपना तरीका है जो की बहुत ही सरल है, कोई शब्दजाल की भाषा नहीं है। जब कोई जटिल तरीके से अपनी बात रखता है तो वह उन्हें बिलकुल भी पसंद नहीं आता।
  • उनका मानना है की, इंफ्रास्ट्रक्चर राष्ट्र निर्माण का हिस्सा है, और इसका उद्देश्य राष्ट्र के लिए सम्पति का निर्माण करना है।
  • गौतम अडानी का कहना है कि, वो अपनी निवेश निति हमेशा राष्ट्रहित को ध्यान में रखते हुए तय करते हैं, और उसमे कभी भी कोई बदलाव नहीं होता।
  • गौतम अडानी का हमेशा से ही कहना है की उन्हें राजनीति पसंद नहीं है, और ना ही वह किसी राजनीतिक दल से जुड़े है, लेकिन फिर भी सभी राजनीतिक दलों में मेरे मित्र हैं।

गौतम अडानी का सामाजिक कार्य (Gautam Adani Social Work)

  • अन्य अरबपति घरानो की तरह अडानी भी सोशल वर्क में अपना योगदान देते है। अदानी फाउंडेशन के माध्यम से वे देश के अनेको जरुरतमंद लोगो को सहूलियत प्रदान करते है। यह फाउंडेशन साल 1996 खोला गया था और इसका नेतृत्व प्रीति अडानी के द्वारा किया जाता हैं।
  • अडानी फाउंडेशन के द्वारा गरीब लोगो को मुफ्त शिक्षा और स्वास्थ्य चिकत्सा प्रदान करने, स्थायी आजीविका के अवसर प्रदान करने, लोगो के कौशल को बढ़ने और सामुदायिक बुनियादी ढांचे का विस्तार करने पर ध्यान दिया जाता है।
  • गौतम अडानी और उनकी पत्नी ने साल 2008 को अहमदाबाद में अडानी विद्या मंदिर नाम के स्कूल की शुरु किया जिसका मकसद आर्थिक रूप से कमजोर बच्चों को शिक्षा प्रदान करना था। स्कूल में सभी बच्चो को दैनिक पौष्टिक भोजन, किताबें, और वर्दी भी स्कूल के द्वारा ही प्रदान की जाती है। अडानी विद्या मंदिर के तहत अब तक तक़रीबन 2500 बच्चो को शिक्षा प्रदान की गई है।

गौतम अडानी से जुड़े विवाद (Gautam Adani Controvercy)

कारमाइकल कोयला खदान का विवाद

अडानी से जुड़े सबसे प्रमुख विवादों में से एक ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड में उनकी कंपनी के द्वारा ऑपरेट की जाने वाली कारमाइकल कोयला खदान है, जिसका ऑस्ट्रेलिया के पर्यायवरणवादियों के द्वारा खूब विरोध किया गया था। ऑस्ट्रेलिया के पर्यायवरणवादियों का मानना था इस प्रोजेक्ट के शुरू होने से पर्यायवरण को बहुत नुकसान हो सकता है, इसलिए इस प्रोजेक्ट को रोक देना चाहिए। कारमाइकल कोयला खदान का यह विवाद आज भी जारी है, जिसके कारण कंपनी आए दिन सुर्ख़ियों में बनी रहती है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से नजदीकियो का आरोप

गौतम अडानी, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से, खासतौर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से नजदीकियो के चलते विवाद में रहते है। कुछ लोगों के द्वारा गौतम अडानी पर यह आरोप लगाया जाता है की वो अपनी दौलत और पोलिटिकल पावर के आधार पर देश के अधिकतर कॉन्ट्रैक्ट हासिल कर रहे है। कुछ लोगो का यह भी कहना है कि गौतम अडानी ने बिना किसी नियम का पालन किये लैंड कॉन्ट्रैक्ट पाने और उस पर निर्माण करने की अनुमति ली है। कुछ लोगो ने उन पर यह भी आरोप लगाया है कि गौतम अडानी को भूमि अधिग्रहण, पर्यावरण मंजूरी और अन्य नियामक अनुमोदन के मामले में सरकार से तरजीह मिली हुई है।

Hindenberg Research ने लगाया था stock manipulation का आरोप

हिंडेनबर्ग रिसर्च फर्म जो की शार्ट सेलिंग भी करती है, जनवरी 2023 में उन्होंने अडानी पर स्टॉक मैनीपुलेशन, मनी लॉन्डरिंग और टैक्सपेअर फंड्स की चोरी और करप्शन जैसे कई आरोप लगाए थे। इस फर्म का कहना था की अदानी की कम्पनीज ओवरवैल्यूड है, और अगर कंपनी की वैल्यूएशन और उसके फंडामेंटल को देखे तो इनमे 85% की गिरावट का रिस्क है। इस फर्म का यह भी कहना था की अडानी अपनी कम्पनियो के स्टॉक प्राइस को manipulate करके banks से लोन लेते है। जिसके बाद अडानी के सभी शेयर्स में भयंकर गिरावट शुरू हो गई थी, और अडानी को $100 बिलियन डॉलर से भी ज्यादा का नुकसान हो गया था।

अडानी के जीवन से जुड़ी कुछ बातें

  • साल 1998 में गौतम अडानी को गन पॉइंट पर किडनैप कर लिया था और रैनसम के तौर पर $1.5 मिलियंस मांगे थे।
  • 2008 में जब मुंबई के ताज होटल में अटैक हुआ था तो तब अडानी उसी होटल में थे।

गौतम अडानी (FAQ)

गौतम अडानी कौन है?

गौतम अडानी देश के जाने-माने अरबपति है।

गौतम अडानी क्या बिजनेस करते हैं?

गौतम अदानी भारतीय उद्योगपति है और अदानी ग्रुप के अध्यक्ष और संस्थापक हैं। अदानी ग्रुप माइनिंग, एनर्जी, इंफ्रास्ट्रक्चर, लॉजिस्टिक्स, एग्रीकल्चर, ऑयल-गैस, और डिफेंस जैसे विभिन्न छेत्रो में कार्यरत है। उनका अडानी समूह भारत के सबसे बड़े व्यापारिक समूहों में से एक है और अंतरराष्ट्रीय बाजारों में भी इनकी महत्वपूर्ण उपस्थिति है।

गौतम अडानी की कितनी कम्पनियाँ हैं?

अडानी ग्रुप की कई कम्पनियाँ है उनमे से मुख्य कंपनियों के नाम है अदानी एंटरप्राइजेज, अडानी ट्रांसमिशन, अडानी पावर, अडानी गैस, अडानी ग्रीन एनर्जी, अडानी विलमर, और अडानी डिफेंस।

गौतम अडानी की मैक्सिमम नेटवर्क कितनी थी?

साल 2022 में गौतम अडानी की नेटवर्थ $155 बिलियन डॉलर थी और वह दुनिया के दूसरे सबसे आमिर इंसान बन गए थे।

गौतम अडानी की नेटवर्क कितनी है?

अभी वर्तमान समय में अडानी की नेटवर्थ $70.8 बिलियन डॉलर है और उनकी वर्ल्ड रिचेस्ट रैंक #16 है।

4/5 - (4 votes)

1 thought on “गौतम अडानी का जीवन परिचय (Gautam Adani Biography in Hindi)”

  1. મે એક દુકાન દાર હું ઓર મુજે એક બિઝનેસ મેન બનનાહે મેરી ag 21years he મેને M.A અધૂરા છોડ દિયા હૈ

    Reply

Leave a Comment